Defence PSU Stocks के लिए तोहफा, 21,700 करोड़ के भारी-भरकम आर्डर से उछलेंगे शेयर!

kpinvestinghub

मित्रों, रक्षा क्षेत्र के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है। भारत सरकार एक लंबी दूरी की मिसाइल प्रणाली विकसित करने जा रही है, जिसे लॉन्ग रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल (LRSAM) डिफेंस सिस्टम कहा जा रहा है। यह एक बेहद शक्तिशाली मिसाइल होगी, जो 350 किमी की दूरी से भी हवा में उड़ रहे किसी भी विमान, हेलीकॉप्टर या मिसाइल को निशाना बना सकती है।

सबसे खास बात यह है कि इस मिसाइल प्रणाली को पूरी तरह से भारत में ही विकसित किया जाएगा। इसके लिए DRDO, भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (BDL) और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) मिलकर काम करेंगे। इस प्रोजेक्ट की लागत लगभग 21,700 करोड़ रुपये आएगी।

शुरुआत में 5 स्क्वाड्रन बनाए जाएंगे, जो भारतीय वायुसेना को मिलेंगे। बाद में थल सेना और नौसेना के लिए भी ऐसे स्क्वाड्रन तैयार किए जाएंगे। देश में ही इसके विकास से इसकी लागत कम आएगी और इसे निर्यात भी किया जा सकेगा।

DRDO ने पहले ही इस मिसाइल का डिजाइन और टेस्टिंग पूरी कर ली है। अब इसे फील्ड परीक्षण के लिए भेजा जाएगा। उम्मीद है कि 2028-29 तक यह मिसाइल प्रणाली भारतीय वायुसेना में शामिल हो जाएगी।

इस प्रोजेक्ट से BEL और BDL जैसी रक्षा कंपनियों को काफी फायदा होगा। विश्लेषकों का मानना है कि इन दोनों कंपनियों के शेयरों में आने वाले दिनों में जबरदस्त तेजी आएगी। इसलिए निवेशकों को इन शेयरों पर नजर रखनी चाहिए।

देशवासियों के लिए यह एक गर्व की बात है कि भारत अब दुनिया की सबसे शक्तिशाली मिसाइल प्रणालियों में से एक का विकास खुद कर रहा है। यह हमारी रक्षा क्षमता को और मजबूत करेगा। आइए, हम सभी इस प्रोजेक्ट की सफलता की कामना करते हैं।

Disclaimer: यहां स्‍टॉक्‍स में निवेश की सलाह ब्रोकरेज हाउस द्वारा दी गई है. ये kpinvestinghub.com के विचार नहीं हैं. निवेश से पहले अपने एडवाइजर से परामर्श कर लें. यह जानकारी केवल सामान्य मार्गदर्शन के लिए है और इसे किसी भी प्रकार के निवेश या वित्तीय निर्णय के लिए सीधे सलाह के रूप में नहीं लेना चाहिए। निवेश से पहले, sebi registered इन्वेस्टर का व्यापक विचार-विमर्श और यथासंभव स्वतंत्र पेशेवर सलाह लेनी चाहिए। हमारी कोई भी सिफारिश या जानकारी व्यक्तिगत परिस्थितियों के बारे में नहीं है और इसलिए उस पर निर्भर नहीं होना चाहिए। हम इस जानकारी में किसी भी त्रुटि के लिए उत्तरदायित्व या जिम्मेदारी नहीं स्वीकार करते हैं।

Share This Article
2 Comments